राजधानी में बैल 3's image
1 min read

राजधानी में बैल 3

Uday PrakashUday Prakash
0 Bookmarks 27 Reads0 Likes


सूर्य सबसे पहले बैल के सींग पर उतरा
फिर टिका कुछ देर चमकता हुआ
हल की नोक पर

घास के नीचे की मिट्टी पलटता हुआ सूर्य
बार-बार दिख जाता था
झलक के साथ
जब-जब फाल ऊपर उठते थे

इस फ़सल के अन्न में
होगा
धूप जैसा आटा
बादल जैसा भात

हमारे घर के कुठिला में
इस साल
कभी न होगी रात ।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts