तऊ न मेरे अघ अवगुन गनिहैं's image
1 min read

तऊ न मेरे अघ अवगुन गनिहैं

TulsidasTulsidas
0 Bookmarks 46 Reads0 Likes

तऊ न मेरे अघ अवगुन गनिहैं।
जौ जमराज काज सब परिहरि इहै ख्याल उर अनिहैं॥१॥
चलिहैं छूटि, पुंज पापिनके असमंजस जिय जनिहैं।
देखि खलल अधिकार प्रभूसों, मेरी भूरि भलाई भनिहैं॥२॥
हँसि करिहैं परतीत भक्तकी भक्त सिरोमनि मनिहैं।
ज्यों त्यों तुलसीदास कोसलपति, अपनायहि पर बनिहैं॥३॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts