कला के अभ्यासी's image
1 min read

कला के अभ्यासी

TrilochanTrilochan
0 Bookmarks 65 Reads0 Likes


कहेंगे जो वक्ता बन कर भले वे विकल हों,
कला के अभ्यासी क्षिति तल निवासी जगत के
किसी कोने में हों, समझ कर ही प्राण मन को,
करेंगे चर्चाएँ मिल कर स्मुत्सुक हॄदय से ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts