आकांक्षा's image
1 min read

आकांक्षा

TrilochanTrilochan
0 Bookmarks 75 Reads0 Likes


सुरीली सारंगी अतुल रस-धारा उगल के
कहीं खोई जो थी, बढ़ कर उठाया लहर में,
बजाते ही पाया, बज कर यही तार सब को
बहा ले जाएँगे, भनक पड़ जाए तनिक तो ।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts