अधिभूत's image
1 min read

अधिभूत

TrilochanTrilochan
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

अधिभूत
मदन के शर केवल पाँच हैं
बिंध गए सब प्राण, बचा नहीं
हृदय एक कहीं, अधिभूत की
नियति है, यति है, गति है, यही ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts