जय हिन्द's image
1 min read

जय हिन्द

Tilok Chand MehroomTilok Chand Mehroom
0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

पैदा उफ़क़े –हिन्‍द से हैं सुबह के आसार
है मंज़िले-आखिर में ग़ुलामी की शबे-तार

आमद सहरे-नौ की मुबारक हो वतन को
पामाले – महन को

मश्रिक़ में ज़ियारेज हुआ सुबह का तारा
फ़र्ख़न्‍दा-ओ-ताबिन्‍दा-ओ-जांबख़्श-ओ-दिलआरा

रौशन हुए जाते हैं दरो-बाम वतन के
ज़िन्‍दाने – कुहन के

‘जयहिन्‍द’ के नारों से फ़ज़ा गूँज रही है
‘जयहिन्‍द’ की आलम में सदा गूँज रही है

यह वलवला यह जोश यह तूफ़ान मुबारक
हर आन मुबारक

अहले-वतन आपस में उलझने का नहीं वक़्त
ऐसा न हो गफ़्लत में गुज़र जाये कहीं वक़्त

लाज़िम है कि मंज़िल के निशाँ पर हों निगाहें
पुरपेच हैं राहें

वह सामने आज़ादिए-कामिल का निशाँ है
मक़सूद वही है, वही मंज़िल का निशाँ है

दरकार है हिम्‍मत का सहारा कोई दम और
दो चार क़दम और

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts