अभी टिमटिमाते थे's image
1 min read

अभी टिमटिमाते थे

Teji GroverTeji Grover
0 Bookmarks 68 Reads0 Likes

अभी टिमटिमाते थे
अब मुँहा-मुँही आग पकड़ते हैं
टेसू के फूल

इच्छा से
अनिच्छा से
जलती है वह
जो देह है आत्मा की

कभी-कभी
सेमल के सुर्ख में अटक कर
भ्रम होने लगता है ---

वह जो अग्नि है
कहाँ-कहाँ टहल आती है
देह की तलाश में

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts