सब हुनर आते हैं उन को आशिक़ी को छोड़ कर's image
1 min read

सब हुनर आते हैं उन को आशिक़ी को छोड़ कर

तनोज दधीच(tanoj dadhich)तनोज दधीच(tanoj dadhich)
0 Bookmarks 40 Reads0 Likes

सब हुनर आते हैं उन को आशिक़ी को छोड़ कर
सब अदाएँ हैं मुकम्मल सादगी को छोड़ कर

मुस्कुरा कर दे रहा वरदान सूरज अब उसे
जिस ने जुगनू को चुना था चाँदनी को छोड़ कर

तीसरा वो लफ़्ज़ जाने कब सुनाएँगे हमें
कब कहेंगे कुछ अलग हाँ और जी को छोड़ कर

याद हों अशआ'र जिस को ये उसी के है सिपुर्द
हम मरेंगे सिर्फ़ अपनी डाइरी को छोड़ कर

राम के जीवन से सारे दुख हटा कर देख लो
कुछ नहीं तुम को मिलेगा जान की को छोड़ कर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts