गीत गाने दो मुझे तो's image
1 min read

गीत गाने दो मुझे तो

Suryakant Tripathi NiralaSuryakant Tripathi Nirala
0 Bookmarks 76 Reads0 Likes

गीत गाने दो मुझे तो,
वेदना को रोकने को।

चोट खाकर राह चलते
होश के भी होश छूटे,
हाथ जो पाथेय थे, ठग-
ठाकुरों ने रात लूटे,
कंठ रूकता जा रहा है,
आ रहा है काल देखो।

भर गया है ज़हर से
संसार जैसे हार खाकर,
देखते हैं लोग लोगों को,
सही परिचय न पाकर,
बुझ गई है लौ पृथा की,
जल उठो फिर सींचने को।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts