सनम हज़ार हुआ तो वही सनम का सनम's image
1 min read

सनम हज़ार हुआ तो वही सनम का सनम

Siraj AurangabadiSiraj Aurangabadi
0 Bookmarks 76 Reads0 Likes

सनम हज़ार हुआ तो वही सनम का सनम

कि अस्ल हस्ती-ए-नाबूद है अदम का अदम

इसी जहान में गोया मुझे बहिश्त मिली

अगर रखोगे मिरे पर यही करम का करम

अभी तो तुम ने किए थे हमारी जाँ-बख़्शी

फिर एक दम में वही नीमचा अलम का अलम

वो गुल-बदन का अजब है मिज़ाज-ए-रंगा-रंग

फ़जर कूँ लुत्फ़ तो फिर शाम कूँ सितम का सितम

न रख 'सिराज' किसी ख़ूब-रू सें चश्म-ए-वफ़ा

सनम हज़ार हुआ तो वही सनम का सनम

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts