आलम के दोस्तों में मुरव्वत नहीं रही's image
1 min read

आलम के दोस्तों में मुरव्वत नहीं रही

Siraj AurangabadiSiraj Aurangabadi
0 Bookmarks 104 Reads0 Likes

आलम के दोस्तों में मुरव्वत नहीं रही

शर्म-ओ-हया-ओ-मेहर व शफ़क़त नहीं रही

ज़ाहिर में क्या रफ़ीक़ कहाते हैं आप कूँ

लेकिन उनों के दिल में मोहब्बत नहीं रही

मिलते हैं रास्ती सीं जो कोई कज-नज़र मिले

ख़्वाबों में पाक-बाज़ की हुर्मत नहीं रही

हर ख़ार बुल-हवस के किए सोहबत इख़्तियार

तो हुस्न गुल-रुख़ों में लताफ़त नहीं रही

ना-लायक़ों में उम्र कूँ करनाँ अबस तलफ़

हम-सोहबती की उन में लियाक़त नहीं रही

भूले हैं हर सनम के करिश्मे पे होश कूँ

इन ज़ाहिदों में कश्फ़-ओ-करामत नहीं रही

सिफ़ले हुए अज़ीज़ अज़ीज़ अब हुए ख़राब

बे-जौहरों में क़द्र-ए-शराफ़त नहीं रही

मत हो बहार-ए-गुलशन-ए-दुनिया का अंदलीब

इस फूलबन में बू-ए-रिफ़ाक़त नहीं रही

अब ज़ात-ए-हक़ बग़ैर न रख दोस्ती 'सिराज'

आलम में आश्नाई-ओ-उल्फ़त नहीं रही

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts