श्री गुरु चरण पखारिहूँ उर में प्रेम बढ़ाय's image
6 min read

श्री गुरु चरण पखारिहूँ उर में प्रेम बढ़ाय

Shivadin Ram JoshiShivadin Ram Joshi
0 Bookmarks 161 Reads0 Likes

श्री गुरु चरण पखारिहूँ उर में प्रेम बढ़ाय |
पूज्य गणपति नमन हूँ, शिव शारद पुनि ध्याय ||
श्री सुमेरुदास जी संत को बंदऊँ बारंबार |
समरथ सिद्ध सुहावने ईश्वर के अवतार ||
अक्षर दो कोऊ प्रेम से राम नाम ले जान |
मूल मन्त्र ये ही सुनहु गावें वेद-पुराण ||

कथा रामावतार की वर्णन करूं विचार |
ता सुन के प्राणी सकल होवे भाव से पार ||

नृप खट्वांग के वंश में थे जो दशरथ भूप |
तेजवान धर्मज्ञ अरु सब गुण रूप अनूप ||
अयोध्या पुरी सुहावनी तहँ जन्मे श्रीराम |
दशरथ सुत हो अवतरे परब्रह्म सुख धाम ||

शेषावतार लक्ष्मण जी का उन सहित राम रघुनायक थे,
ऋषि विश्वामित्र के संग वो ही तो यज्ञ सहायक थे |
मारीच सुबाहु को मारा भगवन राम ने बचपन में,
मख की रखवारी करी वहां विकत भयंकर कानन में |
श्री गुरु के साथ जनकपुर में जाकर शिव-धनु खंडन कीना,
क्षण में धनु तोरी वरी सीता परशुराम मद मर्दन कीना |
आज्ञा पितु की प्रभु शीश धरी तनिक न चित्त उदास किया,
श्री राम लखन सीताजी ने दस चार बरष बनवास लिया |

पंचवटी में आय प्रभु ने पर्ण कुटी में वास किया |
सुर्पणखां का नाक काट असुरी के मद का नाश किया ||
खरदूषण त्रिसिरा आ पहुंचे सेना असुरों की साथ लिये |
पल में संहार अरि दल को धनुष बाण प्रभु हाथ लिये ||
यह समाचार सुन रावन ने कपटी योगी का वेष किया |
मारीच को मारण गये राम पीछे से छल कर हरी सिया ||
मारग में गीध जटायु ने लंकापती को ललकार दिया |
संग्राम हुआ अतिशय भारी रावन ने गीध परास्त किया ||
सागर पार पुरी लंका हर लाया रावन सीता को |
अशोक वाटिका में रक्खा जग जननी परम पुनीता को ||
माया के मृग को मार शीघ्र राम वापस आये |
कुटिया प्रभु ने सूनी देखी प्रिय सीताजी न वहां पाये ||
नर तन धारण करने से स्वामी ने बिलख विलाप किया |
चले सिया संधान प्रभु मारग में गीध मिलाप किया ||
कहा जटायु ने प्रभु से रावन ने सीता हरण किया |
परम भक्त प्रिय जान उसे रघुवर ने आपनी शरण लिया ||
संस्कार सब कर प्रभु ने गीध को भव से तारा है,
पुनि आगे जाकर रघुबर ने कबन्ध राक्षस मारा है |
सुग्रीव संग मित्रता की सब तरह उसे सुख साज दिया,
मारा बाली निज मित्र हेतु अरू किस्कंधा का राज दिया |
सीताजी की सुधी लेने को कपि भालू चतुर्दिक फ़ैल गये,
हनुमान वीर गये लंका में राक्षस गण कपि से दहल गये |
जाकर के सीता सुधी लीनी लंका में आग लगा दीनी,
जितने वहां राक्षस योद्धा थे सबकी शक्ति हनु हर लीनी |
कुशलानंद सीता की कही कपि सुत ने प्रभु से आकर,
लंका पर शीघ्र चढ़ाई की श्रीराम ने कपि भालू लेकर |
नल-नील आदि योद्धाओं को प्रभु ने आदेश सुनाया है,
पार किनारे जाने को वारिद पर सेतु बंधाया है |
भ्रात विभीषण रावण का रघुवीर की शरण में आया है,
लंका का राज दिया उसको निज हाथ से तिलक लगाया है |
उसी सेतु की राह राम ने लंका को घेर लिया जाकर,
कपि भालू शस्त्र सजीले थे श्री राम कृपा का बल पाकर |

लक्ष्मण अरु सुग्रीव कपि हनुमान होय क्रुद्ध |
अंगदादि नल-नील सब कर करने लगे महायुद्ध ||

महा बलि योद्धाओं ने अति घोर विकट संग्राम किया |
राक्षस केते मार-मार वीरों ने अपना नाम किया ||
इन्द्रजीत अरु कुम्भकरण रण सन्मुख जाय लडाई की |
पुनि इनके मारे जाने पर रावन ने स्वयं चढ़ाई की ||
श्री रामचंद्र ने रावन के हृदय में अग्नि बाण दिया |
अंत समय श्रीराम नाम ले रावन ने अपना प्राण दिया ||
उसे मुक्ति पद दे प्रभु ने दिना राज विभीषण को |
सिंहासन पर बैठाय उसे पाला प्रभु ने अपने प्रण को ||
सुखपाल में सीताजी को ले जब भक्त विभीषण आता था |
भालू वानर सबका ही मन तब दर्शन को ललचाता था ||
रघुनायक अन्तर्यामी ने उन सबके मन को जान लिया |
सबके दर्शन हित पदगामी सीताजी का आव्हान किया ||
श्रीराम चरण गहे सिया ने प्रभु मिले सिया से हर्षाकर |
बानर भालू सब सुखी हुये सीताजी के दर्शन पाकर ||
चरणों में गिरकर सीता के लक्ष्मणजी ने प्रणाम किया |
आनंद से अति हरष-हरष सीता ने आशीर्वाद दिया ||
पुष्य विमान में बैठ कर हर्ष चले रघुनाथ |
हनुमदादि सेनापति सीता को ले साथ ||
तीन दिवस में प्रयाग राज आकर प्रभु बोले योद्धा को |
संदेश भारत को शीघ्र ही दो जावो हनुमान अयोध्या को ||
भगवान राम की आज्ञा ले जाकर संदेश सुनाया है |
सुना भारत ने प्रभु आये उर में आनंद समाया है ||
गुरु वशिष्ठ अरु पुरवासी आनंद से लेने आये है |
हर्षित चित मन मुदित भरत चरणों में शीश झुकाये है ||
श्रीराम परे गुरु चरणों में विनय सहित प्रणाम किया |
पुनि भ्रात भरत को गले लगा शत्रुघ्न को विश्राम दिया ||
अनेक वाहनों पर बैठे श्रीराम अयोध्या आय रहे |
भगवान राम की जय बोलो सुर सकल पुष्प बरसाय रहे ||
सीता सहित राज मंदिर में लक्षमण राम पधारे है |
जननी के चरण परे भगवन् रघुकुल के राम उजियारे है ||
गुरु वशिष्ठ की आज्ञा ले श्रीराम विराजे आसन पर |
शुभ मुहूर्त में प्रभु रामचंद्र बैठे राज सिंहासन पर ||
यह मूल पाठ करने से जन सद् आनंद को भी पा जाता |
धन धान्य मिले सुख भोग सभी अरु अंत अमर पुर को जाता ||
रामावतार की मूल कथा कह सुन कर आनंद पते है |
शिवदीन सदा सत्संगी जन गुण राम प्रभु के गाते है ||
सहस्त्र पाठ जो नर करे तां पर राजी राम |
आनंद मंगल सुख लहे पूर्ण होय सब काम ||

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts