तीर-ए-क़ातिल का ये एहसाँ रह गया's image
2 min read

तीर-ए-क़ातिल का ये एहसाँ रह गया

Shibli NomaniShibli Nomani
0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

तीर-ए-क़ातिल का ये एहसाँ रह गया

जा-ए-दिल सीना में पैकाँ रह गया

की ज़रा दस्त-ए-जुनूँ ने कोतही

चाक आ कर ता-ब-दामाँ रह गया

दो क़दम चल कर तिरे वहशी के साथ

जादा-ए-राह-ए-बयाबाँ रह गया

क़त्ल हो कर भी सुबुकदोशी कहाँ

तेग़ का गर्दन पे एहसाँ रह गया

हम तो पहुँचे बज़्म-ए-जानाँ तक मगर

शिकवा-ए-बेदाद-ए-दरबाँ रह गया

क्या क़यामत है कि कू-ए-यार से

हम तो निकले और अरमाँ रह गया

दूसरों पर क्या खुले राज़-ए-दहन

जबकि ख़ुद साने से पिन्हाँ रह गया

जज़्बा-ए-दिल का ज़रा देखो असर

तीर निकला भी तो पैकाँ रह गया

जामा-ए-हस्ती भी अब तन पर नहीं

देख वहशी तेरा उर्यां रह गया

ज़ोफ़ मरने भी नहीं देता मुझे

मैं अजल से भी तो पिन्हाँ रह गया

ऐ जुनूँ तुझ से समझ लूँगा अगर

एक भी तार-ए-गरेबाँ रह गया

हुस्न चमका यार का अब आफ़्ताब

इक चराग़-ए-ज़ेर-ए-दामाँ रह गया

लोग पहुँचे मंज़िल-ए-मक़्सूद तक

मैं जरस की तरह नालाँ रह गया

याद रखना दोस्तो इस बज़्म में

आ के 'शिबली' भी ग़ज़ल-ख़्वाँ रह गया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts