कुछ अकेली नहीं मेरी क़िस्मत's image
1 min read

कुछ अकेली नहीं मेरी क़िस्मत

Shibli NomaniShibli Nomani
0 Bookmarks 33 Reads0 Likes

कुछ अकेली नहीं मेरी क़िस्मत

ग़म को भी साथ लगा लगाई है

मुंतज़िर देर से थे तुम मेरे

अब जो तशरीफ़ सबा लाई है

निगहत-ए-ज़ुल्फ़ ग़ुबार-ए-रह-ए-दोस्त

आख़िर उस कूचे से क्या लाई है

मौत भी रूठ गई थी मुझ से

ये शब-ए-हिज्र मना लाई है

मुझ को ले जा के मिरी आँख वहाँ

इक तमाशा सा दिखा लाई है

आह को सू-ए-असर भेजा था

वाँ से क्या जानिए क्या लाई है

'शिबली'-ए-ज़ार से कह दे कोई

मुज़्दा-ए-वस्ल सबा लाई है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts