सारे मंसूबे रख आए हैं ताक पर's image
1 min read

सारे मंसूबे रख आए हैं ताक पर

Sherjang GargSherjang Garg
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes

सारे मंसूबे रख आए हैं ताक पर
हम सूने आँगन-से
धूल ढके दर्पण-से
जीते हैं!

एक वक़्त गुजर गया
अपने से बात नहीं कर पाए,
मरने का मिलता अवकाश नहीं
हम ऐसे जीवन से भर पाए,
यों ही दुर्घटना से घटे हुए
सारे संदर्भों से कटे हुए
जीते हैं!

जड़ता ने जकड़ा है कुछ ऐसे
अब केवल मृत्युबोध होता है,
मोती तो हाथ नहीं आने के
लगता है, यह अंतिम गोता है,
अपने में ही अद्भुत भाषा-से
जाने किस आस या दुराशा से
जीते हैं!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts