ये मुद्रा's image
1 min read

ये मुद्रा

Shamser Bahadur SinghShamser Bahadur Singh
0 Bookmarks 33 Reads0 Likes


- सुंदर !
उठाओ
निज वक्ष
और-कस-उभर!

क्यावरी
भरी गेंदा की
स्व र्णारक्तु
क्यागरी भरी गेंदा की:
तन पर
खिली सारी -
अति सुंदर! उठाओ...।

स्वप्न--जड़ित-मुद्रामयि
शिथिल करुण!
हरो मोह-ताप, समुद
स्म र-उर वर :
हरो मोह-ताप -
और और कस उभर!
सुंदर! उठाओ...!
अंकित कर विकाल हृदय-पंकज के अंकुर पर
चरण-चिह्न,
अंकित कर अंतर आरक्तओ स्नेेह से नव, कर पुष्ट, बढ़ूँ
सत्वतर, चिरयौवन वर, सुदंर! –

उठाओ निज वक्ष: और और कस, उभर!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts