क़यामत राग ज़ालिम भाव काफ़िर गत है ऐ पन्ना's image
1 min read

क़यामत राग ज़ालिम भाव काफ़िर गत है ऐ पन्ना

Shah Mubarak AbrooShah Mubarak Abroo
0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

क़यामत राग ज़ालिम भाव काफ़िर गत है ऐ पन्ना

तुम्हारे हुस्न सो देखे सो इक आफ़त है ऐ पन्ना

सुघड़ जितने हैं ये ये सब तुझी को प्यार करते हैं

सियाने सौ है पर उन सौ की इक ही मत है ऐ पन्ना

लगा जाती है अपना दाँव और मेरा बचा जाती

तू अपने काम में बाँकैत और रावत है ऐ पन्ना

तिरी कंचन बरन सी देह जिस की गोद में होवे

उसे दुनिया के अय्याशों में क्या दौलत है ऐ पन्ना

नहीं लेती हमारा नाम हम कूँ याँ तलक भूली

तुझे हम और कुछ अब क्या कहें रहमत है ऐ पन्ना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts