आशिक़ बिपत के मारे रोते हुए जिधर जाँ's image
1 min read

आशिक़ बिपत के मारे रोते हुए जिधर जाँ

Shah Mubarak AbrooShah Mubarak Abroo
0 Bookmarks 67 Reads0 Likes

आशिक़ बिपत के मारे रोते हुए जिधर जाँ

पानी सीं उस तरफ़ की राहें तमाम भर जाँ

मर कर तिरे लबाँ की सुर्ख़ी के तईं न पहुँचे

हर चंद सई कर कर याक़ूत-ओ-ल'अल-ओ-मर्जां

जंगल के बीच वहशत घर में जफ़ा ओ कुल्फ़त

ऐ दिल बता कि तेरे मारे हम अब किधर जाँ

इक अर्ज़ सब सीं छुप कर करनी है हम कूँ तुम सीं

राज़ी हो गर कहो तो ख़ल्वत में आ के कर जाँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts