पहाड़ नहीं काँपता's image
1 min read

पहाड़ नहीं काँपता

Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"
0 Bookmarks 106 Reads0 Likes

पहाड़ नहीं काँपता,
न पेड़, न तराई;
काँपती है ढाल पर के घर से
नीचे झील पर झरी
दिये की लौ की
नन्ही परछाईं।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts