भोर बेला--नदी तट की घंटियों का नाद's image
1 min read

भोर बेला--नदी तट की घंटियों का नाद

Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"
0 Bookmarks 49 Reads1 Likes

भोर बेला--नदी तट की घंटियों का नाद।
चोट खा कर जग उठा सोया हुआ अवसाद।
नहीं, मुझ को नहीं अपने दर्द का अभिमान---
मानता हूँ मैं पराजय है तुम्हारी याद।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts