सेस गनेस महेस's image
1 min read

सेस गनेस महेस

RaskhanRaskhan
0 Bookmarks 149 Reads0 Likes

सेस गनेस महेस दिनेस, सुरेसहु जाहि निरंतर गावै।

जाहि अनादि अनंत अखण्ड, अछेद अभेद सुबेद बतावैं॥

नारद से सुक व्यास रटें, पचिहारे तऊ पुनि पार न पावैं।

ताहि अहीर की छोहरियाँ, छछिया भरि छाछ पै नाच नचावैं॥

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts