मोरपखा मुरली बनमाल's image
1 min read

मोरपखा मुरली बनमाल

RaskhanRaskhan
0 Bookmarks 183 Reads0 Likes

मोरपखा मुरली बनमाल, लख्यौ हिय मै हियरा उमह्यो री।

ता दिन तें इन बैरिन कों, कहि कौन न बोलकुबोल सह्यो री॥

अब तौ रसखान सनेह लग्यौ, कौउ एक कह्यो कोउ लाख कह्यो री।

और सो रंग रह्यो न रह्यो, इक रंग रंगीले सो रंग रह्यो री।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts