हाथ (अमृता शेरगिल के लिए )'s image
1 min read

हाथ (अमृता शेरगिल के लिए )

Rajkamal ChoudharyRajkamal Choudhary
0 Bookmarks 93 Reads0 Likes

वक़्त के ताबूत में सिमट नहीं पाते हैं
गर्म उसके सफ़ेद हाथ । लाल फूलों से
ढका पड़ा रहता है सिकुड़ा हुआ
उसका पूरा जिस्म एक अन्धेरे कोने में
ख़ासकर बुझी हुई आँखों के पीले
तालाब । ख़ासकर टूटे हुए स्तनों के
नीले स्तूप । लेकिन सफ़ेद उसके
गर्म हाथ ताबूत से बाहर थरथराते रहते
हैं ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts