यह समययह समय's image
1 min read

यह समययह समय

Rajesh JoshiRajesh Joshi
0 Bookmarks 31 Reads0 Likes

यह समय
यह मूर्तियों को सिराये जाने का समय है ।

मूर्तियाँ सिराई जा रही हैं ।

दिमाग़ में सिर्फ़ एक सन्नाटा है
मस्तिष्क में कोई विचार नहीं
मन में कोई भाव नहीं

काले जल में, बस, मूर्ति का मुकुट
धीरे-धीरे डूब रहा है !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts