जब छाए कहीं सावन की घटा's image
1 min read

जब छाए कहीं सावन की घटा

Raja Mehdi Ali KhanRaja Mehdi Ali Khan
0 Bookmarks 86 Reads0 Likes

जब छाए कहीं सावन की घटा, रो-रो के न करना याद मुझे ।
ऐ जाने तमन्ना ग़म तेरा, कर न दे कहीं बरबाद मुझे ।

जो मस्त बहारें आई थीं, वो रूठ गईं उस गुलशन से,
जिस गुलशन में दो दिन के लिए, क़िस्मत ने किया आज़ाद मुझे ।

वो राही हूँ पलभर के लिए, जो ज़ुल्फ़ के साए में ठहरा,
अब ले के चल दूर कहीं, ऐ इश्क़ मेरे बेदाग मुझे ।

ऐ याद-ए-सनम अब लौट भी जा, तू आ गई क्यूँ समझाने को
मुझको मेरा ग़म शात[1] है, तू और न कर नौशात मुझे ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts