दुनिया मुझको पागल समझे या समझे आवारा's image
2 min read

दुनिया मुझको पागल समझे या समझे आवारा

Raja Mehdi Ali KhanRaja Mehdi Ali Khan
0 Bookmarks 190 Reads0 Likes

दुनिया मुझको पागल समझे या समझे आवारा
मैं दुनिया की सेवा करने फिरता मारा-मारा ओ

ताक़त से भरपूर रखी हैं अपनी दोनों बाजू
इन्साफ़ को ऐसे तौलें जैसे होय तराजू
जिसमें हो कुछ हिम्मत-टिम्मत
लड़ ले वो दुबारा ए जी लड़ ले वो दुबारा
दुनिया मुझको पागल...

दुख में हो कोई बूढ़ा-सूढ़ा या कोई लड़की-मड़की
उन्हें बचाने मेरी ताक़त बिजली बन कर कड़की
कर ले दो-दो हाथ चाहे वो
रुस्तम हो या दारा अरे रुस्तम हो या दारा
दुनिया मुझको पागल...

आँधी बन के जाऊँ और तूफ़ां बन के छाऊँ
जिस रुख पर भी मैं चाहूँ इस दुनिया को ले जाऊँ
तिनका है ये दुनिया मैं हूँ
तूफ़ानों की धारा अरे तूफ़ानों की धारा
दुनिया मुझको पागल...

दुनिया मुझको पागल समझे या समझे आवारा
मैं दुनिया की सेवा करने फिरता मारा-मारा ओ

ताक़त से भरपूर रखी हैं अपनी दोनों बाजू
इन्साफ़ को ऐसे तौलें जैसे होय तराजू
जिसमें हो कुछ हिम्मत-टिम्मत
लड़ ले वो दुबारा ए जी लड़ ले वो दुबारा
दुनिया मुझको पागल...

दुख में हो कोई बूढ़ा-सूढ़ा या कोई लड़की-मड़की
उन्हें बचाने मेरी ताक़त बिजली बन कर कड़की
कर ले दो-दो हाथ चाहे वो
रुस्तम हो या दारा अरे रुस्तम हो या दारा
दुनिया मुझको पागल...

आँधी बन के जाऊँ और तूफ़ां बन के छाऊँ
जिस रुख पर भी मैं चाहूँ इस दुनिया को ले जाऊँ
तिनका है ये दुनिया मैं हूँ
तूफ़ानों की धारा अरे तूफ़ानों की धारा
दुनिया मुझको पागल...

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts