समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है's image
1 min read

समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है

Rahat IndoriRahat Indori
0 Bookmarks 139 Reads0 Likes

समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है
जहाज़ खुद नहीं चलते खुदा चलाता है


ये जा के मील के पत्थर पे कोई लिख आये
वो हम नहीं हैं, जिन्हें रास्ता चलाता है

वो पाँच वक़्त नज़र आता है नमाजों में
मगर सुना है कि शब को जुआ चलाता है

ये लोग पांव नहीं जेहन से अपाहिज हैं
उधर चलेंगे जिधर रहनुमा चलाता है

हम अपने बूढे चिरागों पे खूब इतराए
और उसको भूल गए जो हवा चलाता है

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts