उंगलियां's image
0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

सुबह सुबह स्कूल जाते एक बच्चे के साथ हैं
दादी बनकर
जो उसे सड़क के हर दाएं बाएं के जोखिम से बचा रही है
शाम को बाजार से लौटते समय
जवान उंगलियां
अपनी बूढ़ी दादी को दे रही है अहसास कि
लड़खड़ाहट के पहले वो थाम लेगीं उसे
सुबह, दोपहर,शाम हो या रात
पूरे संस्कार में रहती हैं उंगलियां
ये अपनी नहीं भूलती अपना धर्म
बशर्ते हमारी आस्था बनी रहे
इन उंगलियों पर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts