शाम आयी तेरी यादों के सितारे निकले's image
1 min read

शाम आयी तेरी यादों के सितारे निकले

Parveen ShakirParveen Shakir
0 Bookmarks 161 Reads1 Likes

शाम आयी तेरी यादों के सितारे निकले
रंग ही ग़म के नहीं नक़्श भी प्यारे निकले

रक्स जिनका हमें साहिल से बहा लाया था
वो भँवर आँख तक आये तो क़िनारे निकले

वो तो जाँ ले के भी वैसा ही सुबक-नाम रहा
इश्क़ के बाद में सब जुर्म हमारे निकले

इश्क़ दरिया है जो तैरे वो तिहेदस्त रहे
वो जो डूबे थे किसी और क़िनारे निकले

धूप की रुत में कोई छाँव उगाता कैसे
शाख़ फूटी थी कि हमसायों में आरे निकले


सुबक-नाम = जिसका नाम न लिया जाये; तिहेदस्त= खाली हाथ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts