ख़ुश्बू है वो तो छू के बदन को गुज़र न जाये's image
1 min read

ख़ुश्बू है वो तो छू के बदन को गुज़र न जाये

Parveen ShakirParveen Shakir
0 Bookmarks 439 Reads0 Likes

ख़ुश्बू है वो तो छू के बदन को गुज़र न जाये
जब तक मेरे वजूद के अंदर उतर न जाये

ख़ुद फूल ने भी होंठ किये अपने नीम-वा
चोरी तमाम रंग की तितली के सर न जाये

इस ख़ौफ़ से वो साथ निभाने के हक़ में है
खोकर मुझे ये लड़की कहीं दुख से मर न जाये

पलकों को उसकी अपने दुपट्टे से पोंछ दूँ
कल के सफ़र में आज की गर्द-ए-सफ़र न जाये

मैं किस के हाथ भेजूँ उसे आज की दुआ
क़ासिद हवा सितारा कोई उस के घर न जाये

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts