बादबाँ खुलने से पहले का इशारा देखना's image
1 min read

बादबाँ खुलने से पहले का इशारा देखना

Parveen ShakirParveen Shakir
0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

बादबाँ खुलने से पहले का इशारा देखना
मैं समन्दर देखती हूँ तुम किनारा देखना

यूँ बिछड़ना भी बहुत आसाँ न था उस से मगर
जाते जाते उस का वो मुड़ के दुबारा देखना

किस शबाहत को लिये आया है दरवाज़े पे चाँद
ऐ शब-ए-हिज्राँ ज़रा अपना सितारा देखना

आईने की आँख ही कुछ कम न थी मेरे लिये
जाने अब क्या क्या दिखायेगा तुम्हारा देखना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts