चैत्र मास संवत्सर's image
1 min read

चैत्र मास संवत्सर

ParamanandadasParamanandadas
0 Bookmarks 78 Reads0 Likes

चैत्र मास संवत्सर परिवा बरस प्रवेस भयो है आज।
कुंज महल बैठे पिय प्यारी लालन पहरे नौतन साज॥१॥
आपुही कुसुम हार गुहि लीने क्रीडा करत लाल मन भावत।
बीरी देत दास परमानंद हरखि निरखि जस गावत॥२॥

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts