दिल-सितानी दिलरुबाई पर घमंड's image
1 min read

दिल-सितानी दिलरुबाई पर घमंड

Nooh NarviNooh Narvi
0 Bookmarks 41 Reads0 Likes

दिल-सितानी दिलरुबाई पर घमंड

आप को है ख़ुश-अदाई पर घमंड

जानता हूँ उस का निभना है मुहाल

क्या करूँ मैं पारसाई पर घमंड

नाज़ है क़ातिल को अपनी तेग़ पर

तेग़ को है कज-अदाई पर घमंड

रहम उन को हाल-ए-ग़म पर आ गया

दिल करे बे-दस्त-ओ-पाई पर घमंड

आसियों को रहमत-ए-हक़ पर ग़ुरूर

ज़ाहिदों को जब्हा-साई पर घमंड

गुफ़्तुगू भी मुझ से तुम करते नहीं

इस क़दर इस ख़ुश-अदाई पर घमंड

पर्दा-ए-दर पर किसी को नाज़ है

हम को नज़रों की रसाई पर घमंड

अब उन्हें है दिल-नवाज़ी का ख़याल

था जिन्हें तेग़-आज़माई पर घमंड

फिर गिरफ़्तार-ए-क़फ़स हो जाऊँगा

है अबस मुझ को रिहाई पर घमंड

हो गया जिस के सबब से मैं असीर

था मुझे उस ख़ुश-नवाई पर घमंड

ग़र्क़ कर देगा उन्हें तूफ़ान-ए-इश्क़

'नूह' को है ना-ख़ुदाई पर घमंड

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts