नाराज़ आदमी का बयान-२'s image
2 min read

नाराज़ आदमी का बयान-२

Neelabh Ashk (Poet)Neelabh Ashk (Poet)
0 Bookmarks 31 Reads0 Likes

शब्दों से नाता अटूट है

शब्दों से मेरा नाता अटूट है
मैं उन्हें प्यार करता हूँ
लगातार
लड़ता हूँ झगड़ता हूँ उनसे
अपनी समझ से
उन्हें तरतीब देता रहता हूँ
यहाँ तक कि कई बार
खीझ उठता हूँ उन पर

बहुत बार
मैंने कहा है उनसे
क्यों तंग करते हो मुझे ?
भाई, अब तुम जाओ
कहीं और जा कर डेरा जमाओ
मेरे दिमाग़ को घोंसला मत बनाओ

मगर शब्द हैं कि लगातार
मेरा पीछा करते हैं
मेरे कानों में गूँजते हैं
मेरे दिमाग़ पर दस्तक देते रहते हैं

मैं जानता हूँ
मैं कई बार उन्हें
व्यक्त नहीं कर पाता
उनकी दस्तक के बावजूद
कई बार
मेरे दिमाग़ का कोई दरवाज़ा
नहीं खुल पाता

मैं कुछ और कहना चाहता हूँ
वे कुछ और सुझाते हैं
मैं तराशना चाहता हूँ उन्हें
वे बार-बार
मेरे हाथों को चुभ जाते हैं

कभी मैं आगे बढ़ जाता हूँ
कभी वे पीछे छूट जाते हैं

लेकिन न वे मुझे छोड़ते हैं
न मैं उन से पीछा छुड़ा पाता हूँ
उन्हीं के रिश्ते से मैं ख़ुद को
ज़िन्दगी से जुड़ा पाता हूँ
उन्हीं के रिश्ते से मैं ख़ुद को
ज़िन्दगी से जुड़ा पाता हूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts