कविनामा-1(आलोकधन्वा के लिए)'s image
1 min read

कविनामा-1(आलोकधन्वा के लिए)

Neelabh Ashk (Poet)Neelabh Ashk (Poet)
0 Bookmarks 54 Reads0 Likes


खजूर की तरह है मेरा यह मित्र
आप कहेंगे भला यह कैसा मित्र हुआ
छाया को नाम नहीं और फल भी लागे दूर

जानता हूँ-- इकहरा खड़ा रहता है मेरा यह मित्र
उतनी ही घाम झेलता है
जितनी की आप इसकी डालियों के नीचे

रहें फल तो भले दूर लगें
पर अनिवार्य श्रम से हाथ आने पर
तृप्त कर देते हैं काया।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts