ज़ाहिदो रौज़ा-ए-रिज़वाँ से कहो इश्क़ अल्लाह's image
1 min read

ज़ाहिदो रौज़ा-ए-रिज़वाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

Nazeer AkbarabadiNazeer Akbarabadi
0 Bookmarks 29 Reads0 Likes

ज़ाहिदो रौज़ा-ए-रिज़वाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

आशिक़ो कूचा-ए-जानाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

जिस की आँखों ने किया बज़्म-ए-दो-आलम को ख़राब

कोई उस फ़ित्ना-ए-दौराँ से कहो इश्क़ अल्लाह

यारो देखो जो कहीं उस गुल-ए-ख़ंदाँ का जमाल

तो मिरे दीदा-ए-गिर्यां से कहो इश्क़ अल्लाह

हैं जो वो कुश्ता-ए-शमशीर निगाह-ए-क़ातिल

जा के उन गंज-ए-शहीदाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

आह के साथ मिरे सीने से निकले है धुआँ

ऐ बुताँ मुझ दिल-ए-बिरयाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

याद में उस के रुख़ ओ ज़ुल्फ़ की हर आन 'नज़ीर'

रोज़-ओ-शब सुम्बुल-ओ-रैहाँ से कहो इश्क़ अल्लाह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts