टुक होंट हिलाऊँ तो ये कहता है न बक बे's image
1 min read

टुक होंट हिलाऊँ तो ये कहता है न बक बे

Nazeer AkbarabadiNazeer Akbarabadi
0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

टुक होंट हिलाऊँ तो ये कहता है न बक बे

और पास जो बैठूँ तो सुनाता है सरक बे

कहता हूँ कभी घर में मिरे आ तो है कहता

चौखट पे हमारी कोई दिन सर तो पटक बे

जब बद्र निकलता है तो कहता है वो मग़रूर

कह दो उसे याँ आन के इतना न चमक बे

पर्दा जो उलट दूँगा अभी मुँह से तो दम में

उड़ जाएगी चेहरे की तिरे सब ये झमक बे

सब बाँकपन अब तेरा 'नज़ीर' इश्क़ ने खोया

क्या हो गई सच कह वो तेरी दूत दुबक बे

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts