जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब न हो's image
1 min read

जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब न हो

Nazeer AkbarabadiNazeer Akbarabadi
0 Bookmarks 78 Reads0 Likes

जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब न हो

ये दाग़ वो है कि दुश्मन को भी नसीब न हो

जुदा जो हम को करे उस सनम के कूचे से

इलाही राह में ऐसा कोई रक़ीब न हो

इलाज क्या करें हुकमा तप-ए-जुदाई का

सिवाए वस्ल के इस का कोई तबीब न हो

'नज़ीर' अपना तो मा'शूक़ ख़ूबसूरत है

जो हुस्न उस में है ऐसा कोई अजीब न हो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts