हम अश्क-ए-ग़म हैं अगर थम रहे रहे न रहे's image
1 min read

हम अश्क-ए-ग़म हैं अगर थम रहे रहे न रहे

Nazeer AkbarabadiNazeer Akbarabadi
0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

हम अश्क-ए-ग़म हैं अगर थम रहे रहे न रहे

मिज़ा पे आन के टुक जम रहे रहे न रहे

रहें वो शख़्स जो बज़्म-ए-जहाँ की रौनक़ हैं

हमारी क्या है अगर हम रहे रहे न रहे

मुझे है नज़्अ' वो आता है देखने अब आह

कि उस के आने तलक दम रहे रहे न रहे

बक़ा हमारी जो पूछो तो जूँ चराग़-ए-मज़ार

हवा के बीच कोई दम रहे रहे न रहे

मिलो जो हम से तो मिल लो कि हम ब-नोक-ए-गियाह

मिसाल-ए-क़तरा-ए-शबनम रहे रहे न रहे

यही है अज़्म कि दिल भर के आज रो लीजे

कि कल ये दीदा-ए-पुर-नम रहे रहे न रहे

तुम्हारे ग़म में ग़रज़ हम तो दे चुके हैं जी

बला से तुम को भी अब ग़म रहे रहे न रहे

यही समझ लो हमें तुम कि इक मुसाफ़िर हैं

जो चलते चलते कहीं थम रहे रहे न रहे

'नज़ीर' आज ही चल कर बुतों से मिल लीजे

फिर इश्तियाक़ का आलम रहे रहे न रहे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts