सफ़र में मुश्किलें आएँ तो जुरअत और बढ़ती है's image
1 min read

सफ़र में मुश्किलें आएँ तो जुरअत और बढ़ती है

Nawaz DeobandiNawaz Deobandi
0 Bookmarks 109 Reads0 Likes

सफ़र में मुश्किलें आएँ तो जुरअत और बढ़ती है

कोई जब रास्ता रोके तो हिम्मत और बढ़ती है

बुझाने को हवा के साथ गर बारिश भी आ जाए

चराग़-ए-बे-हक़ीक़त की हक़ीक़त और बढ़ती है

मिरी कमज़ोरियों पर जब कोई तन्क़ीद करता है

वो दुश्मन क्यूँ न हो उस से मोहब्बत और बढ़ती है

ज़रूरत में अज़ीज़ों की अगर कुछ काम आ जाओ

रक़म भी डूब जाती है अदावत और बढ़ती है

अगर बिकने पे आ जाओ तो घट जाते हैं दाम अक्सर

न बिकने का इरादा हो तो क़ीमत और बढ़ती है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts