दूसरा फ़ैसला नहीं होता's image
1 min read

दूसरा फ़ैसला नहीं होता

Nawaz DeobandiNawaz Deobandi
0 Bookmarks 281 Reads0 Likes

दूसरा फ़ैसला नहीं होता

इश्क़ में मशवरा नहीं होता

ख़ुद ही सौ रास्ते निकलते हैं

जब कोई रास्ता नहीं होता

जब तलक रू-ब-रू न हो कोई

आइना आइना नहीं होता

अपना समझा तो कह दिया वर्ना

ग़ैर से तो गिला नहीं होता

कुछ न कुछ पहले खोना पड़ता है

मुफ़्त में तजरबा नहीं होता

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts