व्याकुल विलाप's image
1 min read

व्याकुल विलाप

Nathuram SharmaNathuram Sharma
0 Bookmarks 98 Reads0 Likes

व्याकुल विलाप
हे प्रभु मेरी ओर निहार।
एक अविद्या का अटका है, पचरंगी परिवार,
मेल मिलाय एषणा तीनों, करती हैं कुविचार।
काट रहे कामादि कुचाली, धार कुकर्म कुठार,
जीवन-वृक्ष खसाया, सूखा पौरुष-पाल-पसार।
घेर रहे वैरी विषयों के, बन्धन रूप विकार,
लाद दिये सब ने पापों के, सिर पर भारी भार।
जो तू करता है पतितों का, अपनाकर उद्धार,
तो ‘शंकर’ मुझ पापी को भी, भव-सागर से तार।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts