पथ में साँझ's image
1 min read

पथ में साँझ

Namvar SinghNamvar Singh
0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

पथ में साँझ
पहाड़ियाँ ऊपर
पीछे अँके झरने का पुकारना ।

सीकरों की मेहराब की छाँव में
छूटे हुए कुछ का ठुनकारना ।

एक ही धार में डूबते
दो मनों का टकराकर
दीठ निवारना ।

याद है : चूड़ी की टूक से चाँद पै
तैरती आँख में आँख का ढारना ?

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts