नभ के नीले सूनेपन में's image
1 min read

नभ के नीले सूनेपन में

Namvar SinghNamvar Singh
0 Bookmarks 77 Reads0 Likes

नभ के नीले सूनेपन में
हैं टूट रहे बरसे बादर
जाने क्यों टूट रहा है तन !

बन में चिड़ियों के चलने से
हैं टूट रहे पत्ते चरमर
जाने क्यों टूट रहा है मन !

घर के बर्तन की खन-खन में
हैं टूट रहे दुपहर के स्वर
जाने कैसा लगता जीवन !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts