दिन बीता's image
1 min read

दिन बीता

Namvar SinghNamvar Singh
0 Bookmarks 36 Reads0 Likes

दिन बीता,
पर नहीं बीतती,
नहीं बीतती साँझ

नहीं बीतती,
नहीं बीतती,
नहीं बीतती साँझ

ढलता-ढलता दिन
दृग की कोरों से ढुलक न पाया

मुक्त कुन्तले !
व्योम मौन मुझ पर तुम-सा ही छाया

मन में निशि है
किन्तु नयन से
नहीं बीतती साँझ

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts