उन्हीं लोगों की बदौलत ये हसीं अच्छे हैं's image
1 min read

उन्हीं लोगों की बदौलत ये हसीं अच्छे हैं

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 51 Reads0 Likes

उन्हीं लोगों की बदौलत ये हसीं अच्छे हैं

चाहने वाले इन अच्छों से कहीं अच्छे हैं

कूचा-ए-यार से यारब न उठाना हम को

इस बुरे हाल में भी हम तो यहीं अच्छे हैं

न कोई दाग़ न धब्बा न हरारत न तपिश

चाँद-सूरज से भी ये माह-जबीं अच्छे हैं

कोई अच्छा नज़र आ जाए तो इक बात भी है

यूँ तो पर्दे में सभी पर्दा-नशीं अच्छे हैं

तेरे घर आएँ तो ईमान को किस पर छोड़ें

हम तो का'बे ही में ऐ दुश्मन-ए-दीं अच्छे हैं

हैं मज़े हुस्न-ओ-मोहब्बत के इन्हीं को हासिल

आसमाँ वालों से ये अहल-ए-ज़मीं अच्छे हैं

एक हम हैं कि जहाँ जाएँ बुरे कहलाएँ

एक वो वो हैं कि जहाँ जाएँ वहीं अच्छे हैं

कूचा-ए-यार से महशर में बुलाता है ख़ुदा

कह दो 'मुज़्तर' कि न आएँगे यहीं अच्छे हैं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts