मोहब्बत को कहते हो बरती भी थी's image
1 min read

मोहब्बत को कहते हो बरती भी थी

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 38 Reads0 Likes

मोहब्बत को कहते हो बरती भी थी

चलो जाओ बैठो कभी की भी थी

बड़े तुम हमारे ख़बर-गीर-ए-हाल

ख़बर भी हुई थी ख़बर ली भी थी

सबा ने वहाँ जा के क्या कह दिया

मिरी बात कम-बख़्त समझी भी थी

गिला क्यूँ मिरे तर्क-ए-तस्लीम का

कभी तुम ने तलवार खींची भी थी

दिलों में सफ़ाई के जौहर कहाँ

जो देखा तो पानी में मिट्टी भी थी

बुतों के लिए जान 'मुज़्तर' ने दी

यही उस के मालिक की मर्ज़ी भी थी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts