फ़स्ल-ए-गुल भी तरस के काटी है's image
1 min read

फ़स्ल-ए-गुल भी तरस के काटी है

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 73 Reads0 Likes

फ़स्ल-ए-गुल भी तरस के काटी है

उम्र काँटों में बस के काटी है

मैं ने रो कर गुज़ार दी ऐ अब्र

जैसे तू ने बरस के काटी है

हो के पाबंद-ए-उल्फ़त-ए-सय्याद

ज़िंदगी बे-क़फ़स के काटी है

सोज़-ए-उल्फ़त में ज़िंदगी मैं ने

ग़ैर का मुँह झुलस के काटी है

ज़िंदगी-भर रहे हसीनों में

उम्र फूलों में बस के काटी है

उस ने किस नाज़ से मिरी गर्दन

कमर-ए-शौक़ कस के काटी है

उस की हसरत है दीद के क़ाबिल

जिस ने 'मुज़्तर' तरस के काटी है

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts