दुआ से कुछ न हुआ इल्तिजा से कुछ न हुआ's image
1 min read

दुआ से कुछ न हुआ इल्तिजा से कुछ न हुआ

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 31 Reads0 Likes

दुआ से कुछ न हुआ इल्तिजा से कुछ न हुआ

बुतों के इश्क़ में याद-ए-ख़ुदा से कुछ न हवा

मैं एक क्या हूँ सभी बा-वफ़ा हैं शाकी-ए-जौर

तुम एक क्या हो किसी बेवफ़ा से कुछ न हुआ

भरी तो थी मगर अपने असर को ला न सकी

गई तो थी मगर आह-ए-रसा से कुछ न हुआ

वो आरज़ू हूँ कि जिस आरज़ू की कुछ न चली

वो मुद्दआ' हूँ कि जिस मुद्दआ' से कुछ न हुआ

यही सही कि ख़ुशी से मिले मिले तो सही

यही सही कि हमारी दुआ से कुछ न हुआ

वो एक हम कि जो चाहा किया विसाल की रात

वो एक तुम कि तुम्हारी हया से कुछ न हुआ

उन्हें बुला के तसव्वुर में हम मिले 'मुज़्तर'

हवस तो हो गई पूरी बला से कुछ न हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts