अब इस से बढ़ के क्या नाकामियाँ होंगी मुक़द्दर में's image
2 min read

अब इस से बढ़ के क्या नाकामियाँ होंगी मुक़द्दर में

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
0 Bookmarks 51 Reads0 Likes

अब इस से बढ़ के क्या नाकामियाँ होंगी मुक़द्दर में

मैं जब पहुँचा तो कोई भी न था मैदान-ए-महशर में

इलाही नहर-ए-रहमत बह रही है इस में डलवा दे

गुनहगारों के इस्याँ बाँध कर दामान-ए-महशर में

खुले गेसू तो दीदार-ए-ख़ुदा भी हो गया मुश्किल

क़यामत का अँधेरा छा गया मैदान-ए-महशर में

शरीक-ए-कसरत-ए-मख़्लूक़ तू क्यूँ हो गया यारब

तिरी वहदत का पर्दा क्या हुआ मैदान-ए-महशर में

क़यामत तो हमारी थी हम आपस में निबट लेते

कोई पूछे ख़ुदा क्यूँ आ गया मैदान-ए-महशर में

किसी का आबला-पा क़ब्र से ये पूछता उट्ठा

कहीं थोड़े बहुत काँटे भी हैं मैदान-ए-महशर में

इलाही दर्द के क़िस्से बहुत हैं वक़्त थोड़ा है

शब-ए-फ़ुर्क़त का दामन बाँध दे दामान-ए-महशर में

न उठते कुश्तगान-ए-नाज़ हरगिज़ अपनी तुर्बत से

तिरी आवाज़ शामिल हो गई थी सूर-ए-महशर में

तह-ए-मदफ़न मुझे रहते ज़माना हो गया 'मुज़्तर'

कुछ ऐसी नींद सोया हूँ कि अब जागूँगा महशर में

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts